बाबा कलवा पवन की जानकारी इतिहास

नमस्कार दोस्तों आज आप सभी जननेगे बाबा कलवा पवन के बारे में वो कौन थे कहा
से आय कैसे उनका जनम हुआ कुछ ऐसी ही बाते जो शायद आपने कही पढ़ी सुनी देखि
हो जिसमे से बहुत सी बाते सामान एक जैसी होती है कुछ बाते नाइ होती है
जो हमे अलग अलग गुरु और साथियो से मिलती है तो जानते है अब kalwa pawan history in

दोस्तों वैसे तो अपने कुछ न कुछ बाते बाबा कलवा पवन के बारे में सुनी ही होगी जैसे की वह कौन थे
कहा से थे कैसे कैसे जनम हुआ कुछ बाते मेने भी दोस्तों सुनी और कुछ बाते दोस्तों ऐसी थी
के जिसको सुन आप भी शायद हस्स जाय मेने कही सुना अभी के बाबा कलवा पवन
सबल सिंह बावरी के भाई थे और वह 5 भाइयो में से एक है तो दोस्तों ये किसीबुद्धिहीन बात हुई

यहाँ भी जरूर पढ़े :-

अगर ऐसा है तो बाबा सबल सिंह साथ 4 भाई के साथ बगड़ में क्यों नहीं पूजे जाते अलग क्यों गे
खाल्डोनि में तो ऐसी ही बाते है जो आपको भी सुनने में आय हो जो आप हमे Commnet Box में
जरूर बताय साथ ही जो हम अपने गुरु उताड़ो से सुनते आय है अब में आपको वह बताता हु

kalwa pawan history in hindi | कलवा पवन का इतिहास

दोस्तों बाबा कलवा पवन के बारे में कहा जाता है की वह कोई इंसान नहीं थे किसी योनि से
उनका जन्म नहीं हुआ था उन्हें धूने में तापा हुआ कहते है साथ ही कहा जाता है नांगे बाबा
नांगे गुरु 9 नंगो द्वारा ही इस शक्ति को बनाया गया बाबा कलवा पावा को इंसान योनि से
नहीं कहा जा सकता है यहाँ शक्ति रूपी है जिनका जनम नहीं हुआ है यहाँ नांगे गुरु द्वारा धूने

में ताप कर बनाया गया थता इनकी उत्तत्ति हुई साथ ही जिसके बाद इनके दूसरे जो प्रसीद गुरु
बताय जाते है वो है रखवा गुरु जो की नांगे गुरु के पास उनकी सेवा किया करते थे साथ ही जब
नांगे गुरु अपना स्थान छोड़ जाने लगे तब रखवा गुरु को पलवा पवन बाबा दिए गाय

कलवा पवन को गुरु मर क्यों कहा जाता है

दोस्तों अगर आपके घर में भी बाबा कलवा पवन की सेवा होती है साथ आप भगत है
तो अपने जरूर सुना होगा की कलवा पवन को गुरु मार कहा गया हाउ असा क्यों दोस्तों
हमारे गुरु तथा आपके गुरु द्वारा दी गई जानकारी से यहाँ जाना है की जब नांगे अपना स्थान
छोड़ चले गे साथ ही रखवा गुरु को कलवा पावा बाबा को दे गे तो कुछ सालो बाद वह हस्तिना
पुर जाने लगे अपने गुरु के सूअर को ले जाते थे साथ ही शाम तक वापस एते थे असा ही चलता

रहा कहा जाता है की बाबा कलवा पवन को एक कब्रे सूअर पर मुँह हो गया जिसके बाद उन्होंने
अपने गुरु रखवा से उस सूअर की मांग की तथा कहा की यहाँ सूअर गुरु मुझे चाहिए जिसके बाद
गुरु ने वचन दिया ठीक है यहाँ सूअर तुझे दे दूंगा लेकिन उसी दोसरान बाबा कलवा पवन को गुरु
द्वारा कुछ काम दिया गया जिसके लिए उन्हें भेज दिया और गुरु रखवा ने उस सूअर को किसी को

बेच दिया जिसके बाद बाबा कलवा पवन वापस आते है और देखते है वह सूअर वह नहीं है साथ ही
वह अपने गुरु से कहते है गुरु यहाँ अपने अच्छा नहीं किया और रखवा गुरु द्वारा बाबा कलवा पवन
को धित्कार दिया गया जिसके बाद कहा जाता है की बाबा कलवा पवन ने रखवा गुरु की मार दिया
जिसके बाद वह गुरु मार कहलाय साथ ही कहा गुरु एक सूअर के लिए तूने ऐसा किया आज से तुझे
अभी सूअर की कामी नहीं होगी साथ ही कहा जाता है जो बाबा कलवा पवन का सूअर दिया जाता है
वह बाबा अपने गुरु रखा को ही देते है kalwa pawan history in

कलवा पवन खाल्डोनि में थान किसका है | baba kalwa pawan ka mandir

दोस्तों कहते है खाल्डोनि में बाबा कलवा पवन का थान है लेकिन कुछ गुरु द्वारा यहाँ भी बताया जाता है
की जिस खाल्डोनि में और जिस घर में बाबा कलवा पवन का थान बनाया गया है और पूजा की जाती है
वह घर रखवा गुरु का था और यहाँ भी कहा जाता है की कभी भी बाबा कलवा पवन गुरु रखवा के घर

के अंदर नहीं ग़ुस्से थे साथ ही आज देखा जाता है की बाबा कलवा पवन वही थान पर कहलते है सोचने
की बाते ये है की जिस वयकति ने अपने जीते हुआ उस घर में कदम नहीं रखा आज अंतर धियान होने के
बाद वही सवारी भी आती है इसके बारे में आप मुझे निचे जरूर बताय यहाँ कितना सही है कितना गलत

किया बाबा कलवा पवन भीम और हिडिम्बा के पुत्र है

दोस्तों बहुत से लोगो से अपने यहाँ सुना होगा की बाबा कलवा पवन और कोई नहीं
भीम और हिडिम्ब्बा के पुत्र है या कोई तो उन्हें भीम ही बता देता है और 5 बावरी में भी
शामिल कर पांडव बता देते है साथ ही माता नथिया चौकी को कुंती या पांचाली बताया जाता है

दोस्तों थोड़ा सोच के विचार करे यहाँ सब द्वापर युग की बाते है साथ द्वापर ख़त्म हुआ 5000 साल
का समय हो चूका है और बाबा कलवा पावा नांगे गुरु रखवा गुरु यहाँ सब बाते यहाँ जोड़ी है
तो असा कैसे हुआ मेरी समझ से बहार है लेकिन हुमकारी जानकारी और तटीय के हिसाब से
पहले मेने जो आपको बताया वह इन सभी से मिलता है kalwa pawan history in

बाबा कलवा पवन
गोगा जहर वीर
गोरखनाथ
बावरी

यहाँ सभी कलयुग के देवता है और हर युग का एक अलग अधिययय बताया गया है द्वापर
अलग अलग युग है जहा शक्तियों का असीम भंडार था लेकिन आज कलियुग में आपको
चमतकर जल्दी से देखने को नहीं मिलते है बाकि दोस्तों आपके ऊपर है आप किया सोचते है
आपकी जानकारी हो सकता है अलग हो कुछ मिलती जुलती हो सभी गुरु का ज्ञान इन सभी को
लेकर अलग है लेकिन कितना भी जाने सभी की जानकारी होना जरूरी है उम्मीद है आपको
यहाँ लेख पसंद आएगा होगा

Love Status Click Here

1 thought on “बाबा कलवा पवन की जानकारी इतिहास

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *